सोमवार, 1 फ़रवरी 2010

तुम न चेते आज यदि तो दुरदिन ऐसा आएगा , धरा तपेगी व्योम तपेगा , तिल-तिल हर इन्सान मरेगा ।

मैं एक पेड़ हूँ जो खड़ा है एक वातानुकूलन यंत्र  (A.C) के वायु निकास के सामने, ऐसा लोग कहते हैं पर सच तो यह है की उस वायु निकास वाले डब्बे को मेरे सामने रखा गया है जो आग की तरह मुझे कब से झुलसाने की कोशिश कर रहा है । अकस्मात् ही कभी मैं रो पड़ता हूँ इन मनुष्यों के स्वभाव को देखकर जो स्वयं अपनी जाति के साथ - साथ हमारा भी अहित किये जा रहे हैं। अपने साथ वो हमें और बाकी के सारे जीवों को नष्ट करने पर तुले हैं। दो-दो आँखों के होते हुए भी वे अंधे हैं , या तो फिर वो वास्तविकता को देखना ही नहीं चाहते। वे यह क्षण भर के लिए भी क्यों नहीं सोचते कि भविष्य में वे धरती पर क्या छोड़ जायेंगे, क्या ये महल, ये अट्टालिकाएं और उनमें लगी वातानुकूलन यंत्र क्या इस धरती का सृजन कर सकेंगी? हमारी यह सुजला- सुफला धरती ऐसी रह पायेगी?
समझ नहीं आता मैं हंसूं या रोऊँ उस दिन कि दुर्दशा देख कर। बात है २५ मई २००९ की। एक चक्रवात के आने की सूचना मिली थी। बंगाल की खाड़ी से उठे एक चक्रवात जिसे लोगों ने (जरूर ही किसी मौसम विभाग के अधिकारी ने) 'आइला' नाम दिया। निस्संदेह ही यह पर्यावरण के असंतुलन का प्रभाव था। मुझे यह लग रहा था कि प्रकृति आज मानव के अत्याचार का उत्तर देने वाली है । जो प्रकृति सबका सृजन करती है , विनाश लाने वाली है ।
उस वातानुकूलित यंत्र के पंखे को देख कर मुझे कुछ भिन्न सा प्रतीत तो रहा था। जो मुझे कई महीनों से झुलसाने कि कोशिश कर रहा था उसका भी विनाश मुझे दिख रहा था। साथ ही इसका आनंद ले रहे लोग जो बंद कक्ष में बैठ बाहर के जलते वातावरण से अनभिज्ञ अपने कार्यों में रमे रहते हैं, उन सबकी दशा पर मुझे न जाने क्यों दया आने लगी। सारे लोग अपने अपने घर जल्द से जल्द पहुँचना चाह रहे थे। सड़कों कि हालत बिगड़ रही थी। मेरे जैसे कई पेड़ गिर रहे थे , न जाने क्या-क्या अभिशाप दे रहे होंगे मानव जाति को, या शायद उन्हें इस संकट से बचाने की याचना कर रहे हों ईश्वर से। क्योंकि हमलोग जीते तो है ही प्रकृति के लिए, प्रकृति के जीवों के लिए, पर मृत्यु के बाद भी चाहते हैं कि हमारा शव किसी अच्छे प्रयोजन में लाया जाये, किसी जिव को छत्रछाया मिल जाये हमारे शव से तो हमारी मृत्यु भी सफल हो जाती है ।
मैं बात कर रहा था उस दिन कि जब प्रकृति ने बंगाल के कुछ क्षेत्रों में विनाश का मन बना ली थी। उस दिन लोग भाग रहे थे गिरते हुए पेड़ों और खम्भों से सावधान। बसें नहीं मिल रही थी कि वो लोग अपने घर जा सकें, जो मिल रही थी वो भीड़ से ठसा-ठस। जिनके पास अपनी गाड़ी थी वो कुछ लोग को अपने साथ ले जा रहे थे पर कितनों को ले जाते। मैं तो प्रार्थना कर रहा था - "हे ईश्वर ! ये सारे चेहरे मेरी पहचान के हैं ऐसा न हो कि कोई मेरे जैसा भरी भरकम पेड़ उन गाड़ियों पर टूट कर गिरे और ना ही कोई खम्भा" - जिसका मुझे सबसे ज्यादा डर था। जो बसें लोगों के लिए जगह जगह (जहाँ नहीं रुकना चाहिए वहां भी) रुका करती थीं आज उन बसों पे चढ़ने के लिए मधुमक्खियों कि तरह लोग जुट जा रहे थे ।
लोगों को उस दिन भी यह याद नही आया होगा की यह सब उन्ही के कर्मों का परिणाम है । हमेशा की तरह आज भी वो अपना और सिर्फ अपना क्षण-स्थायी बचाव करने में लगे थे। पर अभी तक तो सिर्फ चक्रवात का संकेत मात्र मिला था। चक्रवात आना अभी बाकी था। यह प्रभाव सिर्फ चक्रवात आने से पहले का था। अति तीव्र वेग वायु जो शायद एक पतले दुबले आदमी को धकेल कर गिराने के लिए काफी था। आज बड़े अधिकारियों में और मज़दूरों में कुछ ज्यादा फर्क नही दिख रहा था। मुझे यह सोचकर संतुष्टि हो रही थी की शायद इनमें से कुछ-एक लोग तो समझेंगे पर्यावरण की महत्ता को और यह जानेंगे की ये सब उन्ही के कारण हो रहा है । पर्यावरण को असंतुलित करने का सारा श्रेय उनको ही जाता है ।पर शायद ही किसी ने सोचा होगा क्योंकि इतने व्यस्त लोगों के पास समय कहाँ होता है?
चक्रवात के आने का समय था शाम ५ बजे से शाम के ७ बजे तक और अभी सिर्फ ३ ही बजे थे। कुछ देर मैं भी अपनी हित की सोचने लगा। सोचा कितना अच्छा होता कि ये सारे पंखे जो कि ऊँचे ऊँचे इमारतों कि सारी गर्मी को समेट कर हमारे ऊपर आग कि तरह बरसते है । पूरे वातावरण को गर्मी से झुलसा कर अंदर इमारतों में बैठे लोगों को इतना तक ज्ञात नहीं होने देता कि यह गर्मी का मौसम है या सर्दी का। आज मेरा तन और मन इस वृष्टि से तृप्त हो रहा था पर मै वायु के प्रबल वेग से बुरी तरह झंझोरा जा रहा था। मैने सोचा आज अगर मै गिरा भी दिया जाऊँ इस पवन वेग से तो तो यह एक प्राकृतिक मौत होगी इन मनुष्यों के द्वारा झुलस-झुलस कर मरने से तो काफी अच्छा होगा - तृप्त हो मरूँगा
यह चक्रवात निसंदेह प्रकृति के कोप था। मेरे जैसे कई पेड़ गिर रहे थे और साथ में लगी दीवारों को भी गिरा रहे थे। जो लोग भीगने मात्र से डरते थे वो आज भीगने कि चिंता न कर सुरक्षित घर पहुँचने कि कोशिश में लगे थे। अचानक देखा पवन वेग तीव्र हुआ और मेरा शत्रु परास्त होता दिख रहा था। वो पंखे वाला डब्बा खुल कर छज्जे से निचे गिरने वाला था। और देखते देखते गिर भी गया और वह अपने ही पुर्जों में बिखर गया। मेरा खुश होना अपेक्षित था पर मानवों का यह दुर्दिन देख अपनी ख़ुशी को भी मै भूल बैठा और यह विनती करने लगा -"हे इश्वर! इन्हें सदबुध्धि दो। किसी न किसी माध्यम से इन्हें  सचेत करो उस महाप्रालय से जो कि आ सकता है पर्यावरण के असंतुलन से। हे इश्वर! इन्हें सचेत करो"। और इसी चिंतन में मैं खो गया और स्वयम को झंझावात को समर्पित कर परिणाम की चिंता छोड़ प्रार्थना करने लगा इन मतलबी इंसानों के लिए।
जब ध्यान टूटी तो देखा वायु-वेग पहले से तीव्र न हुआ था। क्षति हुई थी तो हमारे जैसे लम्बे खड़े पेडों की, उनसे लगे दीवारों की और कुछ टेलीफोन के खम्भों की और कुछ जीवों की जो मानव न थे और टूटने वाली दीवारों को अपना आश्रय समझ बैठे थे। हमारे आस पास के इलाको में ज्यादा क्षति न हुई थी। पर क्षति तो हमेशा की तरह सबसे ज्यादा हमारी ही जाति को हुई थी। कई पेड़ जड़ से उखड चुके थे। न जाने प्रकृति हमसे ही क्यों प्रतिशोध लेती है ?
सुन्दर वन में यह चक्रवात विनाश कर चुका था - वहां की सुन्दरता को कुचल चुका था। धरती जहाँ समृद्ध थी वहीँ पर विनाश का आमंत्रण था। जहाँ वन्य प्राणी सुरक्षित समझते है खुद को , जहाँ हरियाली हुआ करती है , जहाँ शीतल जल बहता है , जहाँ मनुष्य ने अपना वर्चस्व न जमाया था, उसी जगह को क्यूँ चुना गया विनाश के लिए। न जाने कितने हरे भरे गाँव डूब गये पर यहाँ Saltlake में ज्यादा कुछ बर्बादी न हुई थी। पर वो अग्नि वायु उगलने वाला डिब्बा मेरे सामने न था। खुश तो था पर मुझे नही लगा कि किसी ने सबक ली होगी। हलकी चोट से भला बहरे क्यूँ जागने लगे। जागृति तो प्रलय लाएगा। वृक्ष-हीन, जल-विहीन, उर्जा-हीन, पशु-पंक्षी-विहिन धरती, वृहस्पति कि तरह तपता हुआ वायुमंडल। या फिर पिघलता हुआ हिमालय, उफान मारती नदियाँ और फिर धीरे-धीरे जल मग्न होता भूभाग। पर उस समय जागने वाले न होंगे, न जगाने वाले होंगे, बचाने वाले नहीं बचेंगे या फिर यूँ कहिये कि समय न होगा अपनी गलतियों को सुधारने का। धरती फिर एक बार वीरान होगी, प्राणी-विहीन होगी। "हे प्रभु! कम से कम इन्हें ऐसा भयानक स्वपन तो दिखा"। विकास के उनमाद में सब सो चुके हैं गहरी नींद। यह कैसा विकास है जो विनाश को आमंत्रित कर रहा है । कैसी है यह जागृति जब आँखें मूँद सब चल रहे। कैसी है यह शिक्षा जो विनाश को प्रेरित करती है । प्रकृति के साथ मानव का कैसा यह संघर्ष है । यह निरंतर गलतियाँ करने वाला मानव जो खुद को बुद्धिजीवी मानता हैं और यह समझता है कि विज्ञान की आर में जो कुछ भी सत्यापित कर सके बस वही सत्य है और बाकि सब झूठ,  हमेशा भूल जाया करता है की उसकी बुद्धि भी सिमित है ।
अगली सुबह जो देखा वो ज्यादा आश्चर्यजनक नहीं था क्योंकि इनसे मेरी अपेक्षा भी यही थी । मैं जानता था कि कल फिर से सिर्फ एक 3 घन फीट का आदमी ( एक सामान्य मनुष्य का आयतन = 6×1×0.5 घन फीट) , 300 घन फीट (एक साधारण कार का आयतन 6×10×5 घन फीट) की गाड़ी में बैठ कर प्रदुषण फैलाएगा, प्रकृति के मुख पर कालीख मलेगा ।  जिम जाकर अपनी उर्जा को जरूर बर्बाद करेगा पर आधे किलोमीटर कि दूरी भी पैदल नहीं तय करेगा क्योंकि गाड़ी है न , बगल कि मंडी  से सब्जी भी गाड़ी में ही लायेगा  । बसें हैं काफी शहर में  फिर भी अपनी गाड़ी में पेट्रोल बर्बाद कर पर्यावरण को चौतरफा नुक्सान करेगा । खुद तो वातानुकूलित कमरे में रहेंगे और गर्म तपती वायु को बहार प्रवाहित करेंगे क्योंकि उनका छोटा सा कमरा उनके लिए सुखदाई हो भले ही बाहर प्राणी जल मरें । उन्हें क्या ?
दलील देंगे अपने पैसों का पेट्रोल जला रहे हैं, बजली के लिए भी पैसे दे रहे हैं , अपने पैसों से A.C. लगा रहे हैं । हुह्ह  ....थू ... कितने नीच हो तुम और तुम्हारी सोंच ।  जिन्हें संवारना नहीं आता उन्हें बिगारते क्यों हो ? और तुम इसी को जीना भी बोलते हो , हाह , हे मुर्ख जरा विस्तृत कर देख यही तेरा विनाश है , प्रलय-आमंत्रण है !
अगले दिन दिनचर्या वही है जो पहले थी । और अचानक दिखा मुझे एक दानवरूपी-मानव या मानवरूपी-दानव जो भी कहिये मेरे लिए वह राक्षस ही था क्योंकि उससे मेरी ख़ुशी बर्दाश्त नहीं हो रही थी । वह  लगा गया एक नया यन्त्र जो फिर से उगलने लगा मुझपर आग । मैं तड़प रहा हूँ आज तक । मैं अडिग हूँ , इस स्थान से हट नहीं सकता , मैं अडिग हूँ अपने प्रण के प्रति जो मैंने लिया है प्राणियों को प्राणवायु देने का, और इसी हट का मुझे दण्ड मिल रहा है । मैं सच कहता हूँ निर्दोष हूँ , पर सुन हे दुष्ट अपराधी मानव -
"तुम न चेते आज यदि तो  -     दुरदिन ऐसा आएगा ,
 धरा तपेगी व्योम तपेगा , तिल-तिल हर इन्सान मरेगा ।" 
       – प्रकाश ‘पंकज’

4 टिप्‍पणियां:

  1. achha lekh paryawan ke liye....dhanyabaad is prayas ke liye -Raghu

    उत्तर देंहटाएं
  2. aap itni achi hindi likhte hai pata nhi tha....i really like this one...

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टंकण औजार का उपयोग कर मैं आपको आपके कृति के लिए आपकी सराहना करता हूँ. आशा करता हूँ आप इसी तरह लिखते रहेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये चिंता जितने लोगों तक फैले उतना ही अच्छा है...

    उत्तर देंहटाएं