मंगलवार, 5 अक्तूबर 2010

भरत-पुत्रों की चेतावनी

दुनिया वाले सुन लें ...
भरत-पुत्रों की सहनशीलता का तटबंध जब टूटता है,
वे भीम समान मानवता भूल रक्तपिपासु हो जाते है,
शत्रु-वक्ष की रुधिर-चासनी पी कर ही अघाते हैं ।
 ... कोशिश हो ऐसा रक्तिम इतिहास दोहराया न जाये ।   
– प्रकाश ‘पंकज’

6 टिप्‍पणियां:

  1. kya bhai bhut naraj dikhte ho duniya se

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया प्रस्तुति..चिट्ठाजगत की बत्ती जली मिली ... चिट्ठाजगत टीम को बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छा हो कि दुनिया क़े लोग भारत क़े धैर्य की परीक्षा न ले.

    उत्तर देंहटाएं
  4. रस चूसता हो जो मही का भीमकाय वृक्ष, उसकी शिराएँ तोड़ डालो डालियाँ क़तर दो. बस यही अब शेष है.

    उत्तर देंहटाएं