रविवार, 22 अगस्त 2010

क्यों खग समान उन्मुक्तता अब शूल हुई है ?

समय के पिछले पन्नों पर कुछ भूल हुई है,
क्यों खग समान उन्मुक्तता अब शूल हुई है ?   
- प्रकाश 'पंकज'

4 टिप्‍पणियां:

  1. धन्यबाद! दिगम्बर जी, मनीष जी और अमित जी का और उन लोगों का भी जो यहाँ हमारे चिट्ठे पर आकर मेरी रचनाओं को उनका सौभाग्य देत आये हैं ..

    उत्तर देंहटाएं