सोमवार, 18 जुलाई 2011

भारत बनाम भ्रष्टाचार: छोड़ो गाना शब्द प्रलापी

छोड़ो गाना शब्द प्रलापी,
व्यर्थ न ऐसे शीश नवाओ।
हिम्मत बाँधो, वीर प्रतापी,
पत्थर काटो, राह बनाओ।  

– प्रकाश ‘पंकज’

1 टिप्पणी: