गुरुवार, 4 नवंबर 2010

जीना एक आडम्बर साला मरना भी पाखंड !

जीना एक आडम्बर साला
मरना भी पाखंड !  

 – प्रकाश ‘पंकज’



अनुपयुक्त शब्द प्रयोग के लिए क्षमा पर रोक नहीं पाया।
चित्र: गूगल देव साभार

7 टिप्‍पणियां:

  1. मैं क्या बोलूँ अब....अपने निःशब्द कर दिया है

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको व आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर! बेहतरीन !
    आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामना!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपके भावों को मैं समझ नहीं सका...

    उत्तर देंहटाएं